स्वर संधि क्या होता है – प्रकार, परिभाषा और उदाहरण : Sahi Aur Galat

हिंदी व्याकरण का यह एक खास पाठ है। शुरू करने से पहले यह जानना ज़रूरी है कि – संधि के प्रकार क्या है, संधि क्या होता है ?

संधि-स्वर-की-परिभाषा

स्वर संधि

स्वर के बाद स्वर आने से जो विकार पैदा होता है, वहाँ पर स्वर संधि होता है। इसे ही स्वर संधि कहते हैं।

स्वर संधि के प्रकार

यह 5 प्रकार का होता है।

(1) दीर्घ स्वर संधि – आ, ऊ, ई

यदि हृस्व या दीर्घ के बाद हृस्व अथवा दीर्घ आये तब, इन दोनो के मेल से दीर्घ स्वर संधि हो जाता है। निम्नलिखित गणितीय विधि से समझें।

अ/आ + अ/आ = आ
इ/ई + इ/ई = ई
उ/ऊ + उ/ऊ = ऊ

उदाहरण के तौर पर

  • विद्द्या + आलय => विद्द्यालय
  • साधु + ऊर्जा => साधूर्जा
  • कपि + ईस => कपीस
  • नारी + ईश्वर => नारीश्वर

(2) गुण स्वर संधि – ए, ओ, अर्

यदि अ, आ के आगे – इ, ई आये तब ए; उ, ऊ आये तब ओ; तथा ऋ आये तब अर् बन जाता है। इसे ही गुण संधि कहते हैं। निम्नलिखित गणितीय सूत्र से समझें।

अ/आ + इ/ई => ए
अ/आ + उ/ऊ => ओ
अ/आ + ऋ => अर्

उदाहरण के तौर पर समझें

  • सुर + ईश => सुरेश
  • नर + ईश => नरेश
  • महा + उत्सव => महोत्सव
  • ब्रह्म + ऋषि => ब्रह्मर्षि
  • राजा + इन्द्र => राजेन्द्र

(3) वृद्धि स्वर संधि – ऐ, औ

यदि अ, आ के बाद “ए, ऐ” और “ओ, औ” स्वरों का मेल हो, तब क्रमशः ऐ और औ हो जाता है। इसे ही वृद्धि swar sandhi कहते हैं।

निम्न उदाहरण से समझते हैं

  • लोकअ + एषण => लोकैषण
  • मतअ + ऐक्य => मतैक्य
  • जलअ + ओज => जलौज
  • वनअ + ओषधि => वनौषधि
  • सदआ + एव => सदैव
  • परमअ + औषध => परमौषध

(4) यण स्वर संधि – य्, व्, र्

यदि इ, ई, उ, ऊ, ऋ के बाद कोई भिन्न स्वर आये तब इ ई का य् ; उ ऊ का व् ; तथा ऋ का र् हो जाता है। इसे ही यण swar sandhi कहते हैं।

जैसे –

  • पत् इ + अक्ष => प्रत्यक्ष ; प्रति + अक्ष => प्रत्यक्ष
  • रीत् इ + आनुसार => रीत्यानुसार ; रीति + आनुसार => रीत्यानुसार
  • अन् उ + इत => अन्वित ; अनु + इत => अन्वित
  • यद इ + अपि = यदि + अपि => यद्द्यपि / यद्दपि
  • न् इ + ऊन => न्यून ; नि + ऊन => न्यून
  • व् इ + ऊह => व्यूह ; वि + ऊह => व्यूह
  • स् उ + आगतम => स्वागतम ; सु + आगतम => स्वागतम

नोट : स्वार्थी => स् उ + आर्थी, यहाँ पर आर्थी शब्द गलत हैं। इसीलिए यह वृद्धि swar sandhi नही हो सकती।
स्वार्थी => स्व अ + अर्थी = स्व अ् + अ् र्थी —-> दीर्घ संधि

(5) अयदि स्वर संधि – अय्, आय्, अव्, आव्

यदि ए, ऐ, ओ, औ स्वरों का मेल किसी भिन्न स्वर से हो तब ए का अय्, ऐ का आय्, ओ का अव्, औ का आव् हो जाता है। इसे ही अयादि संधी कहते हैं।

  • शयन => श ए + अ न = शे + अन
  • नयन => न ए + अ न = ने + अ न
  • पवन => प ओ + अ न = पो + अन
  • शायक => श ऐ + अ क = शै + अक
  • पावन => प औ + अ न = पौ + अन

धन्यवाद !

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.