द्रव्य (Matter) – परिभाषा, उदाहरण और 6 अवस्थाएं – SahiAurGalat

द्रव्य-matter

पूरे ब्रम्हांड में तरह तरह की चीज़े पायी जाती हैं। जिनके कुछ न कुछ रूप तथा आकार होते ही है। हमारे आसपास लाखो करोड़ो ऐसे कण और शुक्ष्म जीव उड़ते रहते है जिन्हें हम अपनी नंगी आँखों से देख नही सकते। जिन्हें देख सकते है वो भी और जिन्हें नही देख सकते वो भी, इन दोनों के कुछ न कुछ भौतिक अस्तित्व होते है। ये सभी द्रव्य के किन्ही एक अवस्था के रूप होते हैं।



परिभाषा

हमारे ब्रम्हांड की वो हर एक चीज़ जो कुछ न कुछ स्थान घेरती है और द्रव्यमान होता है, उसे द्रव्य कहते हैं।

उदाहरण के तौर पर – पानी, हवा, लकड़ी, पृथ्वी का आयनमंडल इत्यादि।

भौतिक अवस्थाएँ

द्रव्य के मुख्यतः तीन भौतिक अवस्थायें होते है

  1. ठोस : लकड़ी, पत्थर, कांच, लोहा, इत्यादि।
  2. द्रवपानी, तेल, पारा, चाय इत्यादि।
  3. गैसहवा, भाप, धुआँ, इत्यादि।

इसके अलावा कुछ अन्य विशेष परिस्थिति मे पाये जाने वाले द्रव्य की अवस्थाएं प्लाज्मा, बोस आइन्सटीन संघनित, फर्मीऑनिक संघनित आदि भी होते हैं।

रासायनिक अवस्थाएँ

द्रव्य को रासायनिक प्रकृति के आधार पर निम्नलिखित तीन भागों मे बाटा गया है।

  1. तत्व : गोल्ड, सिल्वर, चाँदी, तांबा, लोहा, आयरन, सोडियम, हाइड्रोजन इत्यादि।
  2. यौगिक : पानी, कार्बन मोनोऑक्साइड, सोडियम क्लोराइड इत्यादि।
  3. मिश्रण : शर्बत, हवा अथवा वायु, समुद्री पानी, धूम कोहरा (Smog) इत्यादि।

धन्यवाद !

इस पेज के शुरुआत के यानी ऊपर दाहिने तरफ साइडबार में दिए गए सब्सक्राइब विकल्प में ईमेल आई. डी. डालकर आप हमें सब्सक्राइब कर सकते है। ताकि भविष्य में आने वाली हर एक लेख आपको सबसे पहले मिल सके।

आप हमें > फेसबुक | ट्विटर | गूगल + | यूट्यूब < पर फॉलो कर सकते हैं।

Add a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.