SEO क्या है – What is Search Engine Optimization ? – SahiAurGalat

search engine optimization image
SEO का मतलब Search Engine Optimization होता है !
SEO एक ऐसी मुफ़्त प्रक्रिया है जिसके माध्यम से हम अपनी वेबसाइट की पेज रैंकिंग को,
सर्च इंजन के “खोज परिणाम” (Search Results) में सबसे ऊपर रख सकते हैं !
हिंदी में इसेखोज प्रणाली अनुकूलनकहते है.

हर कोई चाहता है की उसके वेबसाइट की पोस्ट सर्च रिजल्ट्स में पहले पेज पर आये। हो सके तो पहले नंबर पर हो, और अगर आप यह चाहते है तो आज की टॉपिक Search Engine Optimization यानी SEO क्या है, बिलकुल आपके लिए है।

(जानकारी के लिए भी पढ़ सकते है)…

 



जब हम किसी सर्च इंजन (जैसे : Google, Bing, Yahoo ईत्यादी) में कुछ भी सर्च करते है। तो उस शब्द से सम्बंधित सबसे बेहतर पेज, कंप्यूटर या फिर मोबाइल स्क्रीन पर खुलकर आता है। और ज़्यादातर लोग पहले या दुसरे नंबर वाले पोस्ट को खोलकर देखते हैं। क्यूँकी वो हजारो लाखों पोस्ट में से सबसे बेहतर खोज परिणाम (search result) है।

अब सोचने वाली बात यह है की, उस पोस्ट को सर्च इंजन टॉप रैंक में रख रहा है। मतलब सीधे-सीधे उस पोस्ट को सबसे ज्यादा खोला जायेगा। जिसके वजह से वह पोस्ट जिस वेबसाइट पर है, उस वेबसाइट की रैंकिंग में बेशुमार बढ़ोतरी होगी। और एक तरह से देखा जाये तो आप यही चाहते हैं, अपने “वेबसाइट की रैंकिंग बढाना”।

लेकिन सवाल यह है की, आप आपके वेबसाइट की पोस्ट को सर्च इंजन के टॉप सर्च रिजल्ट में कैसे लायेंगे? तो इसका सिर्फ एक ही जवाब है। और वह है, सर्च इंजन ऑप्टिमाइजेशन (Search Engine Optimization) से।

 

चलिए इसे और सरल करते हैं

मैंने गूगल सर्च इंजन में “जिओ मोबाइल” सर्च किया और पहला पेज खुलकर आया है, जैसा की आप निचे फोटो में देख पा रहे होंगे। इस पेज में आपको दो तरह की रिजल्ट दिख रहीं होंगी।

  1. पेड (PAID) रिजल्ट लाल बॉक्स – 2 लाल गोले दिख रही है ? उसमे एक “स्पॉन्सर्ड (SPONSORED)” और दूसरा “एड (Ad)” है।
  2. आर्गेनिक (ORGANIC) रिजल्ट हरा बॉक्स।

What is Search Engine Optimization - SEO क्या है ?

 

हमें ध्यान देना है आर्गेनिक रिजल्ट्स पर ! क्यूँकी पेड रिजल्ट, SEO के अंतर्गत नहीं आता है। यूँ कहें तो बिना सर्च इंजन ऑप्टिमाइजेशन के चक्कर में पड़े बगैर, सीधे-सीधे एडवरटाइजिंग कंपनी (जैसे : एडवर्ड) को पैसा देकर सर्च इंजन रिजल्ट पेज (SERP) के पहले नंबर पर आना।

जैसा की मैंने जिओ मोबाइल सर्च किया तो हमें तक़रीबन 2 करोड़ 20 लाख आर्गेनिक रिजल्ट्स मिले हैं। इन सभी करोड़ो में से हमारी ज़रूरत की चीज़ तक़रीबन पहले सर्च रिजल्ट पेज में ही मिल जानी है। और अगर नहीं ! तो हम नया टैब खोलकर, कोई दूसरा कीवर्ड डालकर फिर से खोजना शुरू कर देते है।

मतलब यह की अगर आपके वेबसाइट की पोस्ट सर्च रिजल्ट के पहले पेज पर नहीं आती है। तो सब मेहनत किया हुआ बेकार है। गूगल ने इन सभी पोस्ट को पहले नंबर की सर्च रिजल्ट पेज पर इसीलिए रखा है। क्यूँकी ये सभी पोस्ट जिओ मोबाइल शब्द से हर मायिने में बहुत ही बेहतर तरीके से सम्बंधित है।

अंततः आपके पोस्ट से सम्बंधित सभी कीवर्ड अगर सही तरह से जुड़े रहेंगे। तो आपका भी पोस्ट सर्च रिजल्ट के पहले पेज पर ज़रूर आएगा।

और ये करना SEO से संभव है। अब तो समझ में आ गया होगा ! ठीक है आगे बढ़ते हैं।

 

SEO कितने प्रकार की होती हैं ?

यह दो प्रकार की होती है-

(1) वाइट हैट सर्च इंजन ऑप्टिमाइजेशन (White Hat SEO) इसके अंतर्गत इस्तेमाल की जाने वाली हर एक तकनीक व प्रक्रिया, जिससे किसी वेबसाइट की रैंकिंग सर्च रिजल्ट्स में सबसे ऊपर हो सके। सभी पुरी तरह से हर एक सर्च इंजन के “नियम और नीतियों” (Rules & Policies) का पालन करती हैं।

(2) ब्लैक हैट सर्च इंजन ऑप्टिमाइजेशन (Black Hat SEO) इसके अंतर्गत इस्तेमाल की जाने वाली हर एक प्रक्रिया व तकनीक, सीधे सर्च इंजन पर असर डालती है। नतीजन वेबसाइट की रैंकिंग सर्च रिजल्ट्स में बड़े ही तेज़ी से बढती है। लेकिन ये सर्च इंजन के “नियम और नीतियों” (Rules & Policies) के बिलकुल खिलाफ़ होती हैं।

विस्तार से जानें “वाइट हैट और ब्लैक हैट सर्च इंजन ऑप्टिमाइजेशन” के बारे में ⇐ यहाँ क्लिक करें।

 

SEO तकनीक

अब मै आपको बताने वाला हूँ उन तकनीक के बारे में जिनके सही इस्तेमाल से। आप अपने वेबसाइट की रैंकिंग सर्च रिजल्ट्स में बेहतर कर सकते हैं। यह तकनीक दो प्रकार का होता है, और बहुत ही सरल होता है। आपको बस इन्ही दोनों पर अच्छे से अमल करने की ज़रूरत है।

  1. ऑन पेज ऑप्टिमाइजेशन (On Page Optimization)।
  2. ऑफ पेज ऑप्टिमाइजेशन (Off Page Optimization)।

विस्तार से जानें “ऑन पेज और ऑफ पेज ऑप्टिमाइजेशन” कैसे करें ⇐ यहाँ क्लिक करें।

और पढ़ें >> How to Start a Blog ( ब्लॉग कैसे शुरू करें ): Guide For Beginner’s





अब आप कमेंट बॉक्स में ये बतायें की,

आज का ज्ञान आपके लिए कितने सही और गलत मायनों में बेहतर लगा,

अगर मेरा लेख आपको पसंद आया तो कृपया मेरे ब्लॉग को सब्सक्राइब करना न भुले,

और आप हमें फेसबुक, ट्विटर और गूगल+ पर फॉलो ज़रूर करें,

आपके प्यार के लिए धन्यवाद।


Comments 1

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.